हम हैं आपके साथ

कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे.

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "सच का सामना" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

शनिवार, जून 18, 2011

मैं खाली हाथ आया और खाली हाथ लौट जाऊँगा

आज से 26 साल पहले 31 जनवरी 1985 को मेरी सबसे बड़ी बहन शकुंतला जैन को ससुराल वालों ने जलाकर मार दिया था.तब भी पुलिस ने रिश्वत लेकर या सिफारिश के कारण मेरे अनपढ़ माता-पिता से कोरे कागजों पर अंगूठे लगवाकर अपनी मर्जी का रिपोर्ट में लिखकर ससुरालियों की मदद की थी और 16 मार्च 2008 की रात लगभग 11:30 बजे जब मेरे बड़े भाई पवन कुमार जैन के साथ अज्ञात व्यक्तियों ने लूटमार की. तब से आजतक उसकी एफ.आई.आर दर्ज नहीं की.फ़िलहाल मेरे ऊपर धारा 498अ व 406 के तहत थाना मोतीनगर में एक झूठी एफ.आई.आर.नं-138/10 दर्ज कर रखी है और दिल्ली पुलिस की कार्यशैली ने आज हमारे परिवार को बर्बादी की कगार पर पहुंचा दिया है.दिल्ली पुलिस ने हमारे परिवार के ऊपर हमेशा बहुत अन्याय किया है. मैं आपसे पत्र के माध्यम से वादा करता हूँ की अगर न्याय प्रक्रिया मेरा साथ देती है तब कम से कम 551लाख रूपये का राजस्व का सरकार को फायदा करवा सकता हूँ. मुझे किसी प्रकार का कोई ईनाम भी नहीं चाहिए. मैं खाली हाथ आया और खाली हाथ लौट जाऊँगा. ऐसा ही एक पत्र दिल्ली के उच्च न्यायालय में लिखकर भेजा है. ज्यादा पढ़ने के लिए नीचे किल्क करके पढ़ें.

1 टिप्पणी:

  1. सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जज्जो से से हर इन्सान परेशान है वजह फालतू के आदेश देते रहते है कभी किसी जज ने किसी अपराधी नेता को चुनाब लड़ने से मना क्या है. कानुप पास करते है के पेट्रोल पम्प पैर आप बोल्त्टेल मैं आयल नहीं ले सकते चाहे उस आदमी को ५ किलीमीटर कार मैं धक्का लगाकर आना पड़े. पता नहीं क्या सोच कर कानून पास करते है. चपरासी १२ पास चाहिए पैर मंत्री अंगूटा छाप है तो भी मंजूर है इस पैर कोई भी कोर्ट कानून या आदेश नहीं बनता. कहो कहता है ये काम संसद का है. इसने पूछोए कभी किसी चोर ने अपने लिए सजा चुनी है जो ये संसद रूपी चोर सजा सुनायेंगे.

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.
आप भी अपने अच्छे व बुरे बैवाहिक अनुभव बाँट सकते हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...