हम हैं आपके साथ

कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे.

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "सच का सामना" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

शनिवार, सितंबर 24, 2011

भगवान महावीर स्वामी की शरण में गया हूँ


दोस्तों,शायद आपको सनद होगा कि मैंने अपनी एक पोस्ट "प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से" में कहा था. अब मेरे जीवन की आखिर लड़ाई जीवन और मौत के बीच होगी. उसी के अंतर्गत मेरी जैन धर्म की इन दिनों तपस्या चल रही है. 
मेरा कल 20 तारीख को फिर जैन धर्म का उपवास है. जो मैंने थोड़ा ओर कठिन करने का निर्णय किया है. अब तक जल पीकर व्रत कर रहा था. मगर कल का बिना जल भी पिए करने की कोशिश है. जोकि अपने यहाँ की जैन स्थानक में "पौषध" के रूप में होगी. इसलिए आपसे अब परसों यानि 21 तारीख को आपसे वार्तालाप होगी और टिप्पणी करूँगा. वैसे मेरे काफी दिन से उपवास चल रहे हैं, 17 को था अब 20 को फिर 23 को इसी तरह से 26,29, को भी है, इसी क्रम से चलती हुई तपस्या एक नवम्बर को खत्म होगी. अब तक 23 व्रतों की जैन धर्म की तपस्या हो चुकी है. इसके साथ ही और भी बहुत सी तपस्या कर चुका हूँ. मेरे इन दिनों कुछ अच्छे हालात नहीं चल रहे है. इसलिए सब जगह से निराश होने के बाद भगवान महावीर स्वामी की शरण में गया हूँ.
दोस्तों और जैन गुरुओं की कृपया से 20 सितम्बर को पौषध के साथ ही एक पहर पोरसी भी बिना जल पिए करते हुए 40 घंटे का उपवास सही से संपन्न हो गया है और सभी प्रकार की सुख सहायता है. आप सभी का सहयोग और दुआओं का लाभ देने के लिए आपका धन्यवाद करते हुए साधुवाद प्रणाम करता हूँ. और कल के जल पीकर उपवास के साथ ही (सूर्य अस्त के बाद से लेकर सुबह 10 बजे तक) एक पहर "पोरसी" भी बिना जल पिए करते हुए 17 घंटे का उपवास सही से संपन्न हो गया है और सभी प्रकार की सुख सहायता है.
दोस्तों और जैन गुरुओं की कृपया से कल यानि 23 सितम्बर के जल पीकर उपवास के साथ ही (सूर्य अस्त के बाद से लेकर आज सुबह 10 बजे तक पौषध और एक पहर "पोरसी" भी बिना जल पिए करते हुए) 17 घंटे का उपवास सही से संपन्न हो गया है और सभी प्रकार की सुख सहायता है.आप सभी का सहयोग और दुआओं का लाभ देने के लिए आपका धन्यवाद करते हुए साधुवाद प्रणाम करता हूँ.
    दोस्तों और गुरुओं की कृपया से कल यानि 26 सितम्बर के जल पीकर उपवास के साथ ही (सूर्य उदय होने के बाद से दो पहर "पौरसी" और सूर्य अस्त के बाद से लेकर आज सुबह 8 बजे तक पौषध और दो "नवकारसी" भी बिना जल पिए करते हुए) 14 घंटे का उपवास सही से संपन्न हो गया है और सभी प्रकार की सुख सहायता है.आप सभी का सहयोग और दुआओं का लाभ देने के लिए आपका धन्यवाद करते हुए साधुवाद प्रणाम करता हूँ.
     दोस्तों! एक मित्र ने जानना चाहा हैं कि आप जैन धर्म के उपवास की प्रक्रिया को संक्षिप्त में बताये. जैन धर्म में रखे जाने वाले लगभग सभी व्रतों(उपवास-जो कई प्रकार के होते हैं. जैसे-एकासना, अम्बल, निर्जल उपवास, पौषध आदि) में जिस दिन उपवास करना है. तब उससे पहले दिन के सूर्य अस्त होने के बाद से ही कुछ भी खाना-पीना नहीं होता है. इसके लिए एक मेरा उदाहरण(जिससे समझने में आसानी हो) देखें:-मैंने 25 सितम्बर के सूर्य अस्त (छह बजे)  के बाद पानी तक नहीं पिया. फिर 26 सितम्बर को सूर्य उदय होने के बाद ही उबालकर ठंडा किया हुआ पानी पीना होता है. जोकि मैंने दो पहर "पौरसी" करते हुए लगभग साढ़े बारह बजे के बाद पिया. उसके बाद सूर्य अस्त होने के कुछ मिनट पहले से पौषध होने के कारण जैन स्थानक में चला गया था और पौषध के नियमों का पालन किया और बिना पानी पिए ही सुबह साढ़े सात बजे तक जैन स्थानक में रहा. फिर वहाँ से चलने के बाद घर आकर व्रत का "पालना" (व्रत खोलने की प्रक्रिया को कहा जाता है) किया. मैंने 27 सितम्बर  को सुबह उठते ही सूर्य उदय होते ही दो "नवकारसी" की प्रतिज्ञा ले ली थी. नोट: एक "नवकारसी" 48 मिनट की होती हैं और एक पहर "पौरसी" लगभग तीन घंटे का होता हैं. वैसे यह समय थोड़ा-बहुत ऊपर नीचे होता रहता है, क्योंकि उस दिन जितने घंटे का दिन होता है, उसको चार से भाग करने पर आने वाले समय की एक पहर पौरसी होती हैं. जैसे-13 घंटे भाग 4 = 3 घंटे :15मिनट 

1 टिप्पणी:

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.
आप भी अपने अच्छे व बुरे बैवाहिक अनुभव बाँट सकते हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...